तीन दिवसीय नानी बाई मायरो कथा का समापन 

0
hellobikaner.com




हैलो बीकानेर न्यूज नेटवर्क, चूरू, मदन मोहन आचार्य मदन गोपाल गौ सेवा समिति ख्याली व जय श्री वेल फेयर एण्ड ऐजुकेशन ट्रस्ट के तत्वाधान मे सरकारी स्कूल मे चर रही तीन दिवसीय नानी बाई का मायरो कथा का रविवार सांय समापन हुआ राजगढ़ क्षेत्र के गांव ख्याली की गौशाला में चल रहे नानी बाई रो मायरे की कथा के अंतिम दिवस रविवार को भगवान द्वारकाधीश ने नानी बाई का छप्पन करोड़ का मायरा भरने की कथा सुनाई गई। कथा वाचक बबीता दाधीच ने कथा में बताया कि हम जब भी अपने आप को असहाय समझे या कष्ट में समझे तो सब कुछ परमपिता परमात्मा के हवाले कर देना चाहिए।

 

 

 

ऐसा करने वाले भक्तों की परमात्मा भी अवश्य लाज रखने के लिए स्वयं दौड़े चले आते हैं। उन्होंने बताया कि जब नरसी भगत के पास सब कुछ था तो सब उसके थे लेकिन जब उसने अपना सब कुछ भगवान को समर्पित कर सत्संग करने लगे तो दीन दुनिया ने उन्हें ठुकरा दिया।

 

 

 

मगर वे अपने सांवरे का गुणगान करते रहे और उसी भक्ति के वश में होकर भगवान श्री कृष्ण ने नरसी के यहां जाकर छप्पन करोड़ का मायरा भरकर भक्त नरसी की लाज बचाई कथा में अतिरिक्त पुलिस अधिक्षक अशोक बुटोलीयाँ की अध्यक्षता में गौ शाला में बिहारी लाल जैन कोलकता/बेगलोर व गौ शाला के ओदिक सहयोग से गौ शाला मे निर्मित शैड का ओमवती पूनियाँ द्वारा फिता काटकर शुभारम्भ किया गया  तथा गायो को लापसी परोसी गई मायरा भाती संजय कुमार पूत्र लाल सिंह नील थें।

 

 

 

इस अवसर पर गौशाला के सजन कुमार झोरठ, ओकारमल, विजय सिंह, जय सिंह गढ़वाल महावीर सिंह मिल, बलवान धानक जयसिंह खरेरा, महावीर शर्मा, भीवाराम शर्मा, मालाराम मेहरा, प्रेम कुमार स्वामी, ट्रस्ट की ओर से नंन्द कुमार दायमा, एडवोकेट अनिरूद पाटोदिया, गौ भक्त सत्य नारायण डोकवे वाला, विप्र फाउडेशन तहसील अध्यक्ष राजकुमार सांखोलीया विमल पूनियाँ वासुदेव लुहारिवाल केलास दाधीच ने महत्वपुर्ण भुमिका निभाई।