बीकानेर में 18 दिसम्बर से होगा अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी का आगाज, देश-विदेश के 400 शिक्षाविद् करेंगे प्रतिनिधित्व

0
hellobikaner.com




हैलो बीकानेर न्यूज़ नेटवर्क nellobikaner.com शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास नई दिल्ली एवं इंडियन इकॉनोमिक एसोसिएशन के संयुक्त तत्वावधान में ‘विश्व के महान दार्शनिक, मनोवैज्ञानिक एवं समाजशास्त्रियों का शिक्षा में योगदान (राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के विशेष संदर्भ में) विषय पर आयोजित दो दिवसीय अन्तरराष्ट्रीय संगोष्ठी का आगाज 18 दिसम्बर 2022 से बीकानेर में होगा।

 

 

कार्यक्रम के अन्तरराष्ट्रीय संयोजक डॉ. राजेन्द्र कुमार श्रीमाली ने बताया कि बीकानेर में गजनेर रोड़, चुंगी चौकी पर स्थित जाट भवन धर्मशाला में होने वाली विश्वस्तरीय संगोष्ठी में देश-विदेश से 400 शिक्षाविद् विश्व के महान् दार्शनिक, मनोवैज्ञानिक एवं समाजशास्त्रियों का शिक्षा में योगदान पर अन्तरराष्ट्रीय मंथन करेंगे।

 

 

महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय बीकानेर के इतिहास विभाग की प्रोफेसर एवं सेमिनार की समन्वयक डॉ. मेघना शर्मा ने बताया कि अन्तरराष्ट्रीय संगोष्ठी की विशिष्ट अतिथि प्रोफेसर येलेना नेचायेबा, विभागाध्यक्ष, राजनीति विज्ञान, युरेशियन राष्ट्रीय विश्वविद्यालय अस्थाना, कजाकिस्तान होगी। मुख्य वक्ता डॉ. अतुल कोठारी, राष्ट्रीय सचिव शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास नई दिल्ली होंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रो. विनोद कुमार सिंह, कुलपति महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय बीकानेर करेंगे। मुख्य अतिथि श्री बिहारी बिश्नोई विधायक नोखा होंगे।

 

 

संगोष्ठी के उपसंरक्षक डॉ. प्रशान्त बिस्सा ने बताया कि इस अवसर पर डॉ. राजेन्द्र कुमार श्रीमाली द्वारा संपादित आई.एस.बी.एन. पुस्तक एवं आई.एस.एस.एन. जर्नल का विमोचन भी अतिथियों द्वारा किया जायेगा।

 

 

संगोष्ठी के संरक्षक डॉ. चन्द्रशेखर कच्छावा विभागाध्यक्ष, इतिहास विभाग, राजकीय डूंगर कॉलेज बीकानेर ने बताया कि अन्तरराष्ट्रीय संगोष्ठी में राजकीय महारानी सुदर्शन कन्या महाविद्यालय बीकानेर के संस्कृत विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. रजनी रमण झा का राम द्वारा सीता का निर्वसन विषय पर विशेष व्याख्यान होगा।

 

 

संयोजक डॉ. श्रीमाली ने बताया कि दो दिवसीय चलने वाले इस अन्तरराष्ट्रीय संगोष्ठी में तीन समानान्तर तकनीकी सत्र चलेंगे जिनमें क्रमशः दार्शनिक, मनोवैज्ञानिक और समाजशास्त्रियों का शिक्षा में योगदान पर विचार विमर्श होगा। प्रथम तकनीकी सत्र के मुख्य अतिथि प्रोफसर स्वेतलाना कोजिरोवा, विभागध्यक्ष, अन्तरराष्ट्रीय विज्ञान परिषद्, कजाकिस्तान होगी। मुख्य वक्ता राष्ट्रीय शैक्षिक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान परिषद्, नई दिल्ली के शिक्षक शिक्षा विभाग के प्रोफेसर ब्रह्मप्रकाश भारद्वाज होंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. संदीप जोशी, सदस्य, राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद्, नई दिल्ली करेंगे।

 

 

द्वितीय तकनीकी सत्र के मुख्य अतिथि भारतीय वैश्विक कार्य परिषद् के शोध सदस्य डॉ. पुनित गौड़ होंगे। मुख्य वक्ता राजस्थान विश्वविद्यालय जयपुर के अध्ययन मंडल की सदस्य प्रोफेसर सुनीता भार्गव एवं प्रोफेसर यदू शर्मा होगी। कार्यक्रम की अध्यक्षता निक इंस्टीट्युट ऑफ मैनेजमेंट थिम्पु, भुटान की पूर्व सी.ई.ओ. डॉ. विमला राय करेगी।

 

तृतीय तकनीकी सत्र के मुख्य अतिथि कैरात बतरबायेब, निदेशक, अन्तरराष्ट्रीय अध्ययन परिषद् कजाकिस्तान होंगे। मुख्य वक्ता प्रोफेसर जी. पी. सिंह प्राचार्य, राजकीय डूंगर महाविद्यालय बीकानेर तथा प्रोफेसर दिग्विजय सिंह प्राचार्य, मांगीलाल बागड़ी कॉलेज नोखा होंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रोफेसर सुषमा सिंह शिक्षा अधिष्ठाता कोटा विश्वविद्यालय कोटा करेगी।

 

डॉ. श्रीमाली ने बताया कि तकनीकी सत्र में हरियाणा से डॉ. दिनेश चहल, हिमाचल से सत्यवीर यादव, इन्दौर से डॉ. सुनीता जोशी, उत्तरप्रदेश से डॉ. कृष्ण चन्द्र गौड़, गुजरात से डॉ. शैली बेठजा, पंजाब से डॉ. कशमीर सिंघ खुंडा, नई दिल्ली से डॉ. कुसुमलता कपुर, मध्यप्रदेश से प्रोफेसर भुवनचन्द्र महापात्र, महाराष्ट्र से सचिन मच्छिन्द्र भौंसले अपना व्याख्यान देंगे। सांयकालीन सत्र में राजस्थानी संस्कृति पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होगा।

 

संगोष्ठी के दूसरे दिन 19 दिसम्बर को प्रातःकालीन सत्र में देश-विदेश से आने वाले सभी 400 प्रतिभागियों को शिक्षाविद् पुरस्कार से सम्मानित किया जायेगा। दोपहरकालीन सत्र पूर्व की भांति तीन तकनीकी सत्र में संपादित होगा तथा सांयकालीन सत्र में अन्तरराष्ट्रीय सेमिनार का विसर्जन होगा। इस कार्यक्रम में हरियाणा से डॉ. ज्योति बठैजा, पंजाब से कंवरजीत कौर, उत्तरप्रदेश से डॉ. सुनीता गौड़, महाराष्ट्र से नयना मच्छिन्द्र औताड़े, झुंझुंनू से डॉ. राकेश कुमार बुड़ानिया, सीकर से डॉ. मनीषा वर्मा, हनुमानगढ़ से डॉ. शशि मरोलिया, श्रीगंगानगर से डॉ. राजपाल वर्मा, टोंक से डॉ. बी. एस. राणा तथा श्रीमती नीरू भारद्वाज पंजीयक शिक्षा विभागीय परीक्षाएं, राजस्थान सरकार, बीकानेर अपना पत्रवाचन करेंगे।
विदित है कि महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय श्री नेहरू शारदा पीठ पी.जी. कॉलेज, गुरूकुल बी. एल. मोहता लर्निंग इंस्टीट्यूट सींथल एवं शुभम् एज्यूकेशन एवं इनफोरमेशन सेन्टर बीकानेर अन्तरराष्ट्रीय सेमिनार के सहयोगी है।

 

इस कार्यक्रम हेतु राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, केन्द्रीय संसदीय कार्यमंत्री अर्जुनराम मेघवाल, उच्च शिक्षा मंत्री राजेन्द्र सिंह यादव, शिक्षा मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला, ऊर्जा मंत्री भंवर सिंह भाटी, बीकानेर पूर्व के विधायक सुश्री सिद्धि कुमारी, राष्ट्रीय प्रत्यायन मूल्यांकन परिषद् के निर्देशक प्रो. एस. सी. शर्मा, पं. दीनदयाल उपाध्याय, शेखावटी विश्वविद्यालय सीकर के कुलपति प्रो. भगीरथ सिंह बिजारणियां, मत्स्य विश्वविद्यालय, अलवर के प्रोफेसर जे. पी. यादव, राजस्थान कृषि विकास बोर्ड के अध्यक्ष रामेश्वर डूडी आदि ने शुभकामना संदेश भेजा है।